PDF Archive

Easily share your PDF documents with your contacts, on the Web and Social Networks.

Send a file File manager PDF Toolbox Search Help Contact



kumbh 2015 .pdf



Original filename: kumbh 2015.pdf

This PDF 1.5 document has been generated by convertonlinefree.com, and has been sent on pdf-archive.com on 04/05/2015 at 11:48, from IP address 180.87.x.x. The current document download page has been viewed 302 times.
File size: 1.8 MB (20 pages).
Privacy: public file




Download original PDF file









Document preview


kumbh me la the most i mportan t fe stival for Hindus. Thi s time maha ku mbh mela will be held a t Na shik. I love kumbh mela . It wa s a lo t fun in 2013.ku mbh mela a t allahabad and its hi stor y i s also inter sting . The kumbh me la place s al so men tioned in my blog below. Now I was no t able to a ttend kumbh mela 2014. I am planning to go in ku mbh mela 2015. The are a lo t o f video s o f
mela in hindi" . I have no t uploaded kumbh mela video ye t. kumbh mela festiva l is at trimba kesh war and na shik bo th.maha ku mbh mela 2015 i s on the banks of Goda wari R iver .
are available on google . kumbh me la nasi k 2015

will be a big hit for Nashi k tourism.

kumbh me la 2010

I did no t attend i t.

kumbha me la is a wonder full festiva l.For kumbh mela na sik, the admini stra tion ha s done all p reparation s.na shik kumbh mela 2015 will a ttract a lo t of touri st all o ver the world . Below you w ill find

(amrit) fell down fro m pot when domon s and God had figh t.allahabad kumbh mela i s th largest festival on Earth .ku mbh mela p lace changes from ti me to ti me.

all about kumbh mela is already pre sen t on Web bu t I did a small effort to pu sh and le t you know more abou t ku mbh

mela.ku mbh mela india i s held a t var ious pla ces.ku mbh mela facts .. Haha that a lso are mentioned below .upcom ing ku mbh mela i s a t Uj jain. kumbh me la allahabad wa s a big hit for up touri sm.

kumbh me la 2010 video are ava ilable on the net.201 5 kumbh mela

kumbh me la fi lm

320

on youtube . The main

kumbh me la date s are al so men tioned belo w. Next

kumbh me la 2016

will bld a t ujjain in Madh ya Pradesh . On Youtube you will find kumbh mea documen tar y also in both english and hindi ju st search by " kumbh

?? It i s a hol y fe stival o f Hindusla st kumbh mela

was held a t allahabad in U ttar Pradesh.why kumbh mela i s ce lebrated ? It is celebra ted becau se Hindu s belei ve that a t these pla ces ne ctor

kumbh me la photo s
kumbh me la 2015 dates. Very ni ce kumbh me la pictures

you wil l find on Google.

will be held a t na shik.ku mbh mela women ba thing da tes are mentioned below the kumbh me la is of big impor tance to the Hindu s In ku mbh mela women and men equall y participa te.

nashik kumbh mela i s at two ci tie s.where is kumbh mela held ? ?Answer : It w ill be held in nashi k and trimba kesh war in Maharastrawha t is kumbh mela
kumbh me la ujjain 2015

is in Maha rastra. kumbh 2015 is al so a t Tr imbake shwar

kumbh me la image s avai lable on Google. kumbh mela lo cation variou s from time to time .nashi k ku mbh me la 2015 dates are mention ed below .kumbh me la sadhu s are a big a ttraction in the me la.

For kumbh mela booking in LUXURY TENTED RESORT YOU CAN
CONTACT. Its just 800 meters from the kushavart Ghat at trimbakeshwar
KUMBH CAMP INDIA +91 9001113984 www.kumbhcampindia.com
ABOUT KUMBH MELA ( NASHIK ) 2015
कुं भ पर्व हहॊद ू धभम का एक भहत्वऩूर्म ऩवम है , जजसभें कयोड़ों श्रद्धारु कॊु ब ऩवम स्थर- हरयद्वाय, प्रमाग,

उज्जैन औय नाससक- भें स्नान कयते हैं। इनभें से प्रत्मेक स्थान ऩय प्रतत फायहवें वषम इस ऩवम का आमोजन
होता है । हरयद्वाय औय प्रमाग भें दो कॊु ब ऩवों के फीच छह वषम के अॊतयार भें अधमकॊु ब बी होता है । २०१३ का
कुम्ब प्रमाग भें हो यहा है ।

खगोर गर्नाओॊ के अनुसाय मह भेरा भकय सॊक्ाॊतत के हदन प्रायम्ब होता है , जफ सूमम औय चन्द्रभा,

वजृ चचक याशी भें औय वह
ृ स्ऩतत, भेष याशी भें प्रवेश कयते हैं। भकय सॊक्ाॊतत के होने वारे इस मोग को "कुम्ब
स्नान-मोग" कहते हैं औय इस हदन को ववशेष भॊगसरक भाना जाता है , क्म़ोंकक मह भाना जाता है कक इस

हदन ऩथ्
ु ते हैं औय इस प्रकाय इस हदन स्नान कयने से आत्भा को
ृ वी से उच्च रोक़ों के द्वाय इस हदन खर
उच्च रोक़ों की प्राजतत सहजता से हो जाती है ।

अनक्रम


1 ऩौयाणर्क कथाएॉ



2 कुम्ब २०१३
o

2.1 ववशेष हदन



3 इततहास



4 सॊदबम



5 मह बी दे खें



6 फाहयी कडडमाॉ

पौराणिक कथाएँ

कॊु ब ऩवम के आमोजन को रेकय दो-तीन ऩौयाणर्क कथाएॉ प्रचसरत हैं जजनभें से सवामधधक भान्द्म कथा दे व-

दानव़ों द्वाया सभुर भॊथन से प्रातत अभत
ू ें धगयने को रेकय है । इस कथा के अनुसाय भहवषम
ृ कॊु ब से अभत
ृ फॉद
दव
ु ामसा के शाऩ के कायर् जफ इॊर औय अन्द्म दे वता कभजोय हो गए तो दै त्म़ों ने दे वताओॊ ऩय आक्भर् कय
उन्द्हें ऩयास्त कय हदमा। तफ सफ दे वता सभरकय बगवान ववष्र्ु के ऩास गए औय उन्द्हे साया वत
ृ ान्द्त

सन
ु ामा। तफ बगवान ववष्र्ु ने उन्द्हे दै त्म़ों के साथ सभरकय ऺीयसागय का भॊथन कयके अभत
ृ तनकारने की

सराह दी। बगवान ववष्र्ु के ऐसा कहने ऩय सॊऩूर्म दे वता दै त्म़ों के साथ सॊधध कयके अभत
ृ तनकारने के

मत्न भें रग गए। अभत
ृ कॊु ब के तनकरते ही दे वताओॊ के इशाये से इॊरऩुत्र 'जमॊत' अभत
ृ -करश को रेकय

आकाश भें उड गमा। उसके फाद दै त्मगुरु शुक्ाचामम के आदे शानुसाय दै त्म़ों ने अभत
ृ को वाऩस रेने के सरए

जमॊत का ऩीछा ककमा औय घोय ऩरयश्रभ के फाद उन्द्ह़ोंने फीच यास्ते भें ही जमॊत को ऩकडा। तत्ऩचचात अभत

करश ऩय अधधकाय जभाने के सरए दे व-दानव़ों भें फायह हदन तक अववयाभ मुद्ध होता यहा।

इस ऩयस्ऩय भायकाट के दौयान ऩथ्
ृ वी के चाय स्थाऩों (प्रमाग, हरयद्वाय, उज्जैन, नाससक) ऩय करश से
अभत
ू ें धगयी थीॊ। उस सभम चॊरभा ने घट से प्रस्रवर् होने से, सूमम ने घट पूटने से, गुरु ने दै त्म़ों के
ृ फॉद

अऩहयर् से एवॊ शतन ने दे वेन्द्र के बम से घट की यऺा की। करह शाॊत कयने के सरए बगवान ने भोहहनी रूऩ
धायर् कय मथाधधकाय सफको अभत
ृ फाॉटकय वऩरा हदमा। इस प्रकाय दे व-दानव मुद्ध का अॊत ककमा गमा।

अभत
ृ प्राजतत के सरए दे व-दानव़ों भें ऩयस्ऩय फायह हदन तक तनयॊ तय मुद्ध हुआ था। दे वताओॊ के फायह हदन
भनुष्म़ों के फायह वषम के तुल्म होते हैं। अतएव कॊु ब बी फायह होते हैं। उनभें से चाय कॊु ब ऩथ्
ृ वी ऩय होते हैं

औय शेष आठ कॊु ब दे वरोक भें होते हैं, जजन्द्हें दे वगर् ही प्रातत कय सकते हैं, भनुष्म़ों की वहाॉ ऩहुॉच नहीॊ है ।

जजस सभम भें चॊराहदक़ों ने करश की यऺा की थी, उस सभम की वतमभान यासशम़ों ऩय यऺा कयने वारे चॊरसूमामहदक ग्रह जफ आते हैं, उस सभम कॊु ब का मोग होता है अथामत जजस वषम, जजस यासश ऩय सूम,म चॊरभा

औय फह
ू धगयी थी, वहाॉ-वहाॉ
ृ स्ऩतत का सॊमोग होता है , उसी वषम, उसी यासश के मोग भें , जहाॉ-जहाॉ अभत
ृ फॉद
कॊु ब ऩवम होता है ।

कम्भ २०१३
वर्शेष दिन

भहाकुम्ब २०१३ स्नान के सरए कुम्ब भें जो हदन ववशेष हैं वो इस प्रकाय हैं 

भकय सॊक्ाॊतत - 14 जनवयी 2013



ऩौष ऩूणर्मभा - 27 जनवयी 2013



एकादशी स्नान - 6 फ़यवयी 2013



भौनी अभावस्मा - 10 फ़यवयी 2013



वसन्द्त ऩञ्चभी' - 15 फ़यवयी 2013



यथ सततभी - 17 फ़यवयी 2013



भाघी ऩूणर्मभा - 25 फ़यवयी 2013



बीष्भ एकादशी - 18 फ़यवयी 2013



भहासशवयात्रत्र - 10 भाचम 2013

इतिहास





१०,००० ईसापूर्व (ईपू) - इततहासकाय एस फी यॉम ने अनुष्ठातनक नदी स्नान को स्वससद्ध ककमा।
६०० ईपू - फौद्ध रेख़ों भें नदी भेऱों की उऩजस्थतत।

४०० ईपू - सम्राट चन्द्रगुतत के दयफाय भें मूनानी दत
ू ने एक भेरे को प्रततवेहदत ककमा।

ईपू ३०० ईस्र्ी - यॉम भानते हैं की भेरे के वतमभान स्वरूऩ ने इसी कार भें स्वरूऩ सरमा था।

ववसबन्द्न ऩुयाऱ्ों औय अन्द्म प्रचीन भौणखक ऩयम्ऩयाओॊ ऩय आधारयत ऩाठ़ों भें ऩथ्
ृ वी ऩय चाय
ववसबन्द्न स्थाऩों ऩय अभत
ृ धगयने का उल्रेख हुआ है ।





५४७ - अबान नाभक सफसे प्रायजम्बक अखाडे का सरणखत प्रततवेदन इसी सभम का है ।



६०० - चीनी मात्री ह्मान-सेंग ने प्रमाग (वतमभान इराहाफाद) ऩय सम्राट हषम द्वाया आमोजजत कुम्ब
भें स्नान ककमा।



९०४ - तनयन्द्जनी अखाडे का गठन।



११४६ - जूना अखाडे का गठन।




१३०० - कानपटा मोगी चयभऩॊथी साधु याजस्थान सेना भें काममयत।

१३९८ - तैभयू , हहन्द्दओ
ु ॊ के प्रतत सल्
ु तान की सहहष्र्त
ु ा के दण्ड स्वरूऩ हदल्री को ध्वस्त कयता है
औय कपय हरयद्वाय भेरे की ओय कूच कयता है औय हजाय़ोंा़ श्रद्धारओ
ु ॊ का नयसॊहाय कयता है ।

ववस्ताय से - १३९८ हरयद्वाय भहाकुम्ब नयसॊहाय



१५६५ - भधस
ु द
ू न सयस्वती द्वाया दसनाभी व्मव्स्था की रडाका इकाइम़ों का गठन।

१६८४ - फ़्ाॊसीसी मात्री तवेतनमए नें बायत भें १२ राख हहन्द्द ू साधओ
ु ॊ के होने का अनभ
ु ान रगामा।



१६९० - नाससक भे शैव औय वैष्र्व साम्प्रदाम़ों भें सॊघषम; ६०,००० भये ।



१७६० - शैव़ों औय वैष्र्व़ों के फीच हरयद्वाय भेरें भें सॊघषम; १,८०० भये ।



१७८० - त्रिहटश़ों द्वाया भठवासी सभूह़ों के शाही स्नान के सरए व्मवस्था की स्थाऩना।





१८२० -हरयद्वाय भेरे भें हुई बगदड से ४३० रोग भाये गए।

१९०६- त्रिहटश करवायी ने साधओ
ु ॊ के फीच भेरा भें हुई रडाई भें फीचफचाव ककमा।

१९५४ - चारीस राख रोग़ों अथामत बायत की १% जनसॊख्मा ने इराहाफाद भें आमोजजत कुम्ब भें
बागीदायी की; बगदड भें कई सौ रोग भये ।



१९८९ - धगतनज फुक ऑफ़ वल्डम रयकॉर्डमस ने ६ फ़यवयी के इराहाफाद भेरे भें १.५ कयोड रोग़ों की

उऩजस्थतत प्रभाणर्त की, जोकी उस सभम तक ककसी एक उद्दे चम के सरए एकत्रत्रत रोग़ों की सफसे
फडी बीड थी।


१९९५ - इराहाफाद के “अधमकुम्ब” के दौयान ३० जनवयी के स्नान हदवस को २ कयोड रोग़ों की
उऩजस्थतत।



१९९८ - हरयद्वाय भहाकुम्ब भें ५ कयोड से अधधक श्रद्धारु चाय भहीऩों के दौयान ऩधाये ; १४ अप्रैर
के एक हदन भें १ कयोड रोग उऩजस्थत।



२००१ - इराहाफाद के भेरे भें छ् सतताह़ों के दौयान ७ कयोड श्रद्धारु, २४ जनवयी के अकेरे हदन ३
कयोड रोग उऩजस्थत।





२००३ - नाससक भेरे भें भुख्म स्नान हदवस ऩय ६० राख रोग उऩजस्थत।
२००४ - उज्जैन भेरा; भुख्म हदवस ५, १९, २२, २४ अप्रैर औय ४ भई।

२००७ - इराहाफाद भे अधमकुम्ब। ऩववत्र नगयी इराफाद भें अधमकुम्ब का आमोजन ३ जनवयी २००७
से २६ फ़यवयी २००७ तक हुआ।



२०१० - हरयद्वाय भें भहाकुम्ब प्रायम्ब। १४ जनवयी २०१० से २८ अप्रैर २०१० तक आमोजजत ककमा
जाएगा। ववस्ताय से - २०१० हरयद्वाय भहाकुम्ब



FACTS AND MYTHOLOGY ABOUT KUMBH
MELA AND Trimbakeshwar
or Tryambakeshwar (NASHIK)2015


Related documents


PDF Document kumbh mela facts
PDF Document kalsarp dosh nivaran puja in trimbakeshwar
PDF Document what is the kaalsarp dosh nivaran
PDF Document kaalsarp puja in trimbakeshwar
PDF Document asthi visarjan in varanasi
PDF Document kalsarp dosh nivaran in trimbakeshwar


Related keywords